Home / Hindi News / आधार कार्ड के प्रयोग से उत्तराखंड में खुला भ्रष्टाचार का खेल, 2 लाख मुस्लिम छात्र रातोरात ग़ायब
Aadhar-card

आधार कार्ड के प्रयोग से उत्तराखंड में खुला भ्रष्टाचार का खेल, 2 लाख मुस्लिम छात्र रातोरात ग़ायब

विशेष रिपोर्ट, नई दिल्ली: भारत में भ्रष्टाचार एक गंभीर समस्या है। 1947 में देश के आज़ाद होने के बाद बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार के खेल की वजह से ही हमारा देश विकास की दौर में चीन से पिछड़ गया और आज तक गरीब ही बना हुआ है। भारत के कानून, पुलिस और न्यायपालिका में इतने झोल है कि देश भर में भ्रष्टाचार का खेल खुलेआम चलता है और कोई कुछ नहीं कर पाता है।

लेकिन भारत सरकार ने अब भ्रष्टाचार के विरुद्ध जंग का एलान कर रखा है और आये दिन देश में होने वाले घोटाले जनता के सामने आ रहे है।

यू तो आधार की शुरुआत एक पहचान पत्र के तौर पर की गई थी, लेकिन भारत सरकार अब इसका प्रयोग भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई को तेज करने के लिए कर रही है। भारत में अनेक पहचान पत्र है-

  1. वोटर कार्ड
  2. ड्राइविंग लाइसेंस
  3. पासपोर्ट
  4. आधार कार्ड
  5. पैन कार्ड
  6. सरकारी बैंक का पास बुक, इत्यादि

अन्य पहचान पत्रों के मुकाबले नकली आधार कार्ड बनवाना काफी मुश्किल है।

भारतीय मीडिया में आई एक रिपोर्ट के अनुसार-उत्तराखंड सरकार ने आधार कार्ड का प्रयोग करते हुए मुस्लिम समुदाय के छात्रों को दिए जाने वाले scholarship में होने वाले घपले का पर्दाफ़ाश किया है। मामले प्रकाश में आते ही जांच के आदेश दिए गए है। तो आधार का विरोध का मतलब अब समझ में आया- भ्रष्ट दलालो का रोजगार छीन रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

*

x

Check Also

lalu-prasad-pratap-sons-tejashvi-and-tej

बिहार के पूर्व उप-मुख्यमंत्री ने किया राष्ट्रगान का अपमान, देशद्रोह का मामला दर्ज

पटना, बिहार: इधर कुछ दिनों से बिहार लगातार नेशनल और इंटरनेशनल मीडिया में बना हुआ है। ...