Home / Hindi News / रिपब्लिक चैनल की बढती लोकप्रियता से घबराये कांग्रेसी मीडिया संस्थान और नेता, अर्नब पर किया केस
shashi-tharoor-arnab-republic

रिपब्लिक चैनल की बढती लोकप्रियता से घबराये कांग्रेसी मीडिया संस्थान और नेता, अर्नब पर किया केस

भारत का अधिकांश मीडिया संसथान कांग्रेसी नेताओ और विदेशी NGO के एजेंडा के अनुसार न्यूज़ दिखाते है. भारत के हित में बोलने वाला कोई भी नेता, अभिनेता, पब्लिक सेलेब्रिटी, आम जनता इनके इनकी नजर में बीजेपी और आरएसएस का एजेंट है, कम्युनल है और मुस्लिम विरोधी है. कांग्रेसी विचारधारा और इस्लामिक आतंकवाद का समर्थन करने वाले मीडिया संस्थानों ने आजतक कभी भी कांग्रेसी और देश के अन्य तथाकथित सेक्युलर नेताओ से कभी कोई सवाल जवाब नहीं किया है. यही कारण है की कांग्रेसी और सेक्युलर नेताओ के भ्रष्टाचार को उजागर करने वाले चैनल और पत्रकार इन्हें अच्छे नहीं लगते है.

कुछ दिन पहले कांग्रेसी चैनल टाइम्स नाउ ने पत्रकार अर्नव गोस्वामी पर कंटेंट चोरी का आरोप लगाते हुए केस कर दिया. हाल ही में ऑडियो टेप्स के जरिए राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव  के काले कारनामे  और सुनन्दा पुष्कर के हत्या के बारे में सनसनीखेज खुलासे किये थे. टाइम्स नाउ के मुताबिक ये दोनों टेप्स उनके थे जिसे अर्नब गोस्वामी ने चुरा लिया और अपने चैनल पर चला दिया.

हमारा सवाल- अगर टाइम्स नाउ के पास ये टेप्स थे तो उसे ब्रॉडकास्ट क्यों नहीं किया गया? क्या यह नेताओ के काले कारनामो पर पर्दा डालने की हरकत नहीं है?

कांग्रेसी नेता शशि थरूर ने भी अर्नब पर मानहानि का केस किया है. आजकल नेताओ द्वारा पत्रकारों को डराने धमकाने के लिए मानहानि के केस का इस्तेमाल किया जा रहा है. अगर शशि थरूर अपनी पत्नी की निर्मम हत्या में शामिल नहीं तो उन्हें मीडिया में आकर अपना पक्ष रखना चाहिए था. अब देखते है पत्रकार अर्नव गोस्वामी कैसे इन आरोपों का सामना करते है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

*

x

Check Also

Aadhar-card

आधार कार्ड के प्रयोग से उत्तराखंड में खुला भ्रष्टाचार का खेल, 2 लाख मुस्लिम छात्र रातोरात ग़ायब

विशेष रिपोर्ट, नई दिल्ली: भारत में भ्रष्टाचार एक गंभीर समस्या है। 1947 में देश के आज़ाद ...