Home / Hindi News / उत्तर​ ​कोरिया​ ​की​ ​एटॉमिक​ ​हथियारों​ ​की​ ​जिद,​ ​पूरी​ ​दुनिया​ ​का​ ​अस्तित्व​ ​खतरे​ ​में
north-korea-jong_2206619b

उत्तर​ ​कोरिया​ ​की​ ​एटॉमिक​ ​हथियारों​ ​की​ ​जिद,​ ​पूरी​ ​दुनिया​ ​का​ ​अस्तित्व​ ​खतरे​ ​में

प्योंगयोंग, उत्तर कोरिया:
 
आजकल उत्तर कोरिया अपने परमाणु कार्यक्रमों की वजह से अमेरिका और अन्य वेस्टर्न कन्ट्रीज के आँखों का कांटा बना हुआ है। आर्थिक प्रतिबंधों और सिमित साधनों के वाबजूद उत्तर कोरिया लगातार परमाणु परीक्षण करते जा रहा है। एक नए रिपोर्ट के अनुसार उत्तर कोरिया ने ICBM(Intercontinental Ballistic Missile) का भी परीक्षण कर लिया है जिसके परिणामस्वरूप यह देश अमेरिका पर भी परमाणु हमले करने में सक्षम हो गया है। उत्तर कोरिया द्वारा लगातार किये जा रहे परमाणु परीक्षणों से परेशान होकर अमेरिका ने फिर से इस देश पर कड़े आर्थिक प्रतिबंध लगाया है। 
 
परमाणु हथियार विकसित करने और रखने का खतरनाक चलन सेकंड वर्ल्ड वार के दौरान अमेरिका ने शक्तिशाली जापान को हराने के लिए हिरोशिमा और नागासाकी नामक दो जापानी शहरों पर परमाणु हमले किये जिसमे लाखों लोग मारे गए, कई घायल हुए, रेडिएशन से कई लोग अपंग हुए। 
 
आज भी इन दोनों शहरो में करीब 75 साल पहले हुए परमाणु हमले का असर देखा जा सकता है। 
 
 
परमाणु हथियारों की विनाशक क्षमता को जानते हुए भी दुनिया के कई देश परमाणु हथियार को बनाते है और भण्डारण करते है। परमाणु हथियार रखने वाले कुछ प्रमुख देश- 
1.रूस 
2.अमेरिका 
3.ब्रिटेन 
4.फ्रांस 
5.भारत 
6.पाकिस्तान 
7.इसराइल 
8.नार्थ कोरिया 
9.ईरान 
10.चीन 
 
सबसे ज्यादा परमाणु हथियार रूस और अमेरिका के पास है। दुनिया के अन्य देश भी परमाणु हथियार पाने की फ़िराक में है। 
 
दुनिया का हर परमाणु शक्ति-संपन्न देश अपने दुश्मन को नीचा दिखाने के लिए परमाणु हमले की धमकी देता है। जैसे- 
इस्लामिक आतंकवादी देश पाकिस्तान समय-समय पर भारत पर परमाणु हथियार से हमला करने के धमकी देता है। 
 
 
अगर हकीक़त में भारत और पाकिस्तान के बीच परमाणु युद्ध शुरू हो जाये तो भारी तबाही मच सकती है। अगर 
पाकिस्तान भारत पर परमाणु हमले करता है तो भारत में करीब 52 करोड़ लोग मारे जायेंगे और देश के कई शहर खाक में मिल जायेंगे। भारत की जबावी परमाणु हमले में पूरा पाकिस्तान ही दुनिया के मानचित्र से गायब हो जायेगा 
 
और करीब 18 करोड़ लोग(पाकिस्तान की पूरी आबादी) का सफाया हो जायेगा। इसी तरह चीन और भारत के बीच परमाणु युद्ध होने पर पूरा भारत तबाह हो जायेगा और चीन का बहुत बड़ा हिस्सा खंडहर बन जायेगा। रूस और अमेरिका के बीच परमाणु युद्ध होने पर रूस केवल आधे घंटे में ही पूरे अमेरिका का नामो-निशान मिटा सकता है और यही बात रूस पर भी लागू होती है। लेकिन परमाणु हथियारों की विनाशक क्षमता को जानकार ही अमेरिका के बाद कोई देश आजतक इसका इस्तेमाल करने की कोई हिम्मत नहीं जुटा पाया है। 
 
 

महंगा सौदा: 
 
 
परमाणु हथियारों का विकास, रख-रखाव और सुरक्षा में काफी खर्च होता है। अगर गलती से ये खतरनाक हथियार आतंकवादियों के हाथ लग जाये तो फिर इस दुनिया का भगवान ही मालिक है।  
 
उत्तर कोरिया चीन के सहयोग से ही आर्थिक प्रतिबन्ध के वाबजूद परमाणु हथियार बनाते जा रहा है। इसलिए पहले 
 चीन की बांह मरोड़ने की जरुरत है। उत्तर कोरिया तो अपने आप सुधर जायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

*

x

Check Also

Aadhar-card

आधार कार्ड के प्रयोग से उत्तराखंड में खुला भ्रष्टाचार का खेल, 2 लाख मुस्लिम छात्र रातोरात ग़ायब

विशेष रिपोर्ट, नई दिल्ली: भारत में भ्रष्टाचार एक गंभीर समस्या है। 1947 में देश के आज़ाद ...